बूंदी लड्डू बनाने की विधि । Boondi Ladoo । Boondi ladoo recipetopjankari.com

बूंदी लड्डू बनाने की विधि । Boondi Ladoo । Boondi ladoo recipe

बूंदी लड्डू बनाने की विधि । Boondi Ladoo । Boondi ladoo recipe.

save water save tree !

स्वादिष्ट बूंदी के लड्डू किसी भी शुभ अवसर अवश्य बनाये और इसके स्वाद का मजा उठाएं. 

आवश्यक सामग्री - Ingredients for Boondi Ladoo   

बेसन - 2 कप (250 ग्राम)
चीनी - 1.5 कप (375)
पिस्ते - 10-12 (कद्दूकस किए हुए)
इलायची - 8-10 (पाउडर)
खरबूजे के बीज - ¼ कप
घी - तलने के लिए

विधि - How to make Boondi Ladoo

बेसन को बड़े प्याले में निकाल लीजिये, थोड़ा सा पानी डालिये और बेसन को गुठलियां खतम होने तक घोल लीजिये. थोड़ा पानी और मिलाइये और बेसन को अच्छी तरह फैटिये, और चमचे से लगातार गिरने वाली कनसिसटेन्सी का घोल बना लीजिये (घोल को बनाने में डेढ़ कप पानी का यूज हुआ है) घोल को लगातार 4-5 मिनिट चलाते हुए फैंट लीजिए.

बैटर को 5-6 मिनिट अच्छे से फैंट लेने के बाद  घोल को 10 मिनिट के लिये रख दीजिये.

चाशनी बनाने के लिए किसी बर्तन में चीनी डालिये, और पौना कप पानी डाल दीजिये, चीनी को पानी में घुलने दीजिये, चीनी पानी में घुलने के बाद 1-2  मिनिट तक चाशनी को पकने के बाद चाशनी को चैक कीजिये.

चमचे से चाशनी की गिराइये, चाशनी में से 1-2 तार बन रहा होता है तो चाशनी बन कर तैयार है. गैस बंद कर दीजिए, लड्डू के लिये चाशनी तैयार है.

लड्डू बनाने के लिए पैन में घी डालकर गरम कीजिए. 10 मिनिट बाद बैटर फूल कर तैयार है इसे 2-3 मिनिट और अच्छे से फैंट लीजिए. घी अच्छे से गरम है इसे चैक करने के लिए गोल की एक बूंद घी में डालकर देखें अगर वो सिक कर ऊपर आ रही है तो घी अच्छे से गरम होकर तैयार है.

बूंदी बनाने के लिए छेद वाली कलछी को गरम घी के ऊपर रखिये और कलछी के ऊपर चमचे से दो चम्मच बेसन का घोल डालिये. कलछी के छेदों से बेसन निकल कर कढ़ाई में गिरता है और गोल बूंदी बन जाता है, कढ़ाई में जितनी बूंदी आ जाय उतनी गिरा दिजिये, अब बूंदी को हल्का सा ही सेकना होता है. हल्की सी सिक जाने पर इसे बरतन के ऊपर रखी छलनी में निकाल लीजिये ताकि अतिरिक्त घी इसमें से निकल कर नीचे बरतन में चला जाए.

अब अगली बार की बूंदी को तलने के लिए झाव में लगा हुआ बेसन दोनों ओर से हटा दीजिए, बेसन हटा देने से बूंदी फिर से बनाने पर गोल और अच्छी बनकर तैयर होती है. अब इस झावा पर बेसन का घोल डालें और बूंदी को घी में सेक कर तैय़ार कर लीजिए इसी प्रकार सारे घोल से बूंदी बना कर तैयार कर लीजिए.

चाशनी अगर ठंडी हो गई है तो इसे गरम कर लीजिए क्योंकि बूंदी को हमें गरम चाशनी में ही डालना है. चाशनी के गरम होने पर इसमें बूंदी डाल दीजिए साथ में इलायची पाउडर और खरबूजे के बीज कर सभी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए.

अब बूंदी को आधे घंटे के लिए ढक कर रख दीजिए. आधे घंटे के बाद बूंदी को चैक कीजिए. बूंदी में चाशनी अच्छे से एब्जार्ब हो गई है, इसे मिक्स कर दीजिए और बूंदी के लड्डू बना लीजिए. इसके लिए हाथों पर थोड़ा सा घी लगाकर थोड़ी सी बूंदी या जितना बड़ा लड्डू बनाना चाहते हैं उसके हिसाब से उतनी बूंदी हाथ में उठा कर दोनो हाथो की सहायता से दबा दबा कर गोल लड्डू बनाकर तैयार कर लीजिये. इसी प्रकार सारे लड्डू बनाकर तैयार कर लीजिये.

लड्डू को 4-5 घंटे पूरी तरह से खुश्क हो जाने दीजिए इसके बाद इन्हें किसी भी एयर टाइट कंटेनर में भर कर रख दीजिए. इन्हें फ्रिज से बाहर रख कर 10-12 दिनों तक खाने के लिए उपयोग में लाया जा सकता है. लड्डू को फ्रिज में रख कर पूरे 20-25 दिनों तक उपयोग में ला सकते हैं.

बहुत ही स्वादिष्ट बूंदी के लड्डू बनकर तैयार है, इन्हें पिस्ते से सजाएं और स्वादिष्ट बूंदी के लडुडू  सभी को खिलाइये और खाइये.

सुझाव

बूंदी बनाने के लिए बैटर बहुत ज्यादा पतला या बहुत ज्यादा गाढा़ नहीं होना चाहिए.
बूंदी के लिए बनाए घोल को एकदम अच्छे से चिकन अहोने तक घोलना होता है.
बूंदी तलने के लिए मध्यम गरम तेल की आवश्यकता होती है.
बूंदी गोल न बन रही हो तो इसका कारण होता है कि बेसन का घोल सही से नहीं बना है. घोल गाढा़ है और अच्छे से फैंटा नहीं गया है.
बूंदी अगर चपटी बन रही हो तो उसका कारण है कि बेसन का घोल पतला बना है.
लड्डू को रंग देने के लिए पीला या ऑरेंज फूड कलर का उपयोग भी किया जा सकता है.
बूंदी बनाने के लिए जो झावा लें वो अधिक बडा़ नही लीजिए.


 

Link