Full information about Post-mortem | What is post-mortemtopjankari.com

Full information about Post-mortem | What is post-mortem

Full information about Post-mortem | What is post-mortem.

save water save tree !

 

 
दोस्तों आपको बताएंगे कि पोस्टमार्टम क्या है? इसे क्यों किया जाता है? पोस्टमार्टम के तरीके क्या हैं? उसको करने से पहले किस तरह की औपचारिकताएं की जाती हैं? आदि। आपको इसके लिए करना बस इतना है कि आप केवल इस विडियो को ध्यान से देखे और सुने । उम्मीद है कि यह विडियो आपको अवश्य पसंद आएगी। तो आइए, शुरू करते हैं।
 

दोस्तों तो सबसे पहले जानते है पोस्टमार्टम क्या है? 

 
पोस्टमार्टम का संधि विच्छेद करें। यानी इन दोनों शब्दों के अर्थ अलग-अलग जानें तो पोस्ट का अर्थ होता है आफ्टर और मार्टम का अर्थ होता है डेथ। यानी Postmortem व्यक्ति के मरने के बाद किया जाता है। आपको बता दें कि यह भी एक तरह की शल्य क्रिया यानी कि सर्जरी ही होती है। पोस्टमार्टम को शवपरीक्षा के नाम से भी जाना जाता है।
 
दोस्तों दूसरा सबसे बड़ा सवाल उठता है क्या पोस्टमार्टम के लिए परिजनों की मंजूरी चाहिए?
 
जी हां साथियों। इसका जवाब हां में है। आपको यह भी बता दें कि पोस्टमार्टम मनमर्जी से नहीं किया जा सकता। इसके लिए पहले परिजनों से मंजूरी लेना आवश्यक होता है। यह परिवार का कोई नजदीकी रिश्तेदार या व्यक्ति भी हो सकता है। इसके बाद ही पोस्टमार्टम किया जाता है।
 

दोस्तों आपको पता है पोस्टमार्टम क्यों होता है?

अब निश्चय ही आपके दिमाग में प्रश्न आ रहा होगा कि आखिर पोस्टमार्टम क्यों किया जाता है? तो आपको बता दें कि Postmortem इसलिए किया जाता है क्योंकि इससे मौत की वजह का पता लगाया जा सकता है। आपको पता होगा कि सामान्य परिस्थितियों में मौत होने पर अक्सर परिवार वाले किसी सदस्य के मरने के बाद उसके शव का पोस्टमार्टम नहीं कराते।
अक्सर ज्यादातर संदिग्ध हालात में मौत होने की स्थिति में ही पोस्टमार्टम की नौबत आती है। इसकी वजह जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं कि इसके बाद ही पता लग पाता है कि मौत किस वक्त हुई और मृतक की मौत की वजह क्या थी।
 

अब सवाल यह उठता है की ये पोस्टमार्टम कौन करता है?

आपको बता दें कि जो व्यक्ति इस कार्य को अंजाम देता है उसको पैथोलॉजिस्ट कहते हैं। हिंदी में उसको विकृति विज्ञानी भी पुकारा जाता है। वैसे तो वह एक सामान्य डॉक्टर ही होता है, लेकिन वह इन कार्य में दक्ष होता है। उसकी मदद के लिए सहायक भी होते हैं। आपको बता दें कि पोस्टमार्टम के दौरान शव की चीरफाड़ का काम इन्हीं के जिम्मे होता है। यह अपने काम को अंजाम देकर डाक्टर को रिपोर्ट बनाने में मदद देते हैं।
 

दोस्तों अब आप सोचते होगे की ये पोस्टमार्टम होता किस वक्त है?

 
दोस्तों, आपको यह भी बता दें कि अभी तक पोस्टमार्टम केवल दिन में ही किया जाता है। रात में Postmortem क्यों नहीं किया जाता है, इसके कई कारण हैं। मसलन बिजली की रोशनी में जैसे खून का रंग बदल जाता है। यह लाल की जगह बैंगनी दिखाई पड़ता है। इसके साथ ही चोट का भी रंग बदला हुआ दिखाई देता है। इस वजह से रात में पोस्टमार्टम नहीं किया जाता, क्योंकि फिर इससे व्यक्ति की मौत के सही कारण का पता नहीं चल पाता।
 
कई बार ऐसा भी हुआ कि संदिग्ध हालात में मौत होने पर परिजनों ने शव को जलाने के लिए शमशान घाट या कब्रगाह का रुख किया, लेकिन किसी ने शिकायत कर दी और पुलिस ने मौके पर पहुंचकर अंतिम संस्कार रुकवाया और शव को कब्जे में ले पोस्टमार्टम को भेजा।
 

वैसे में उम्मीद करता हूं आपको यह जानकारी जरूर पसंद आयी होगी। दोस्तों विडियो को लाइक करना व् शेयर करना ना भूले । और साथ ही साथ हमारे यू- ट्यूब चैनल टॉप जानकारी को सब्सक्राइब करना ना भूले । धन्यवाद

 

 Watch Video on YOUTUBE 

 
 

 Watch Video on YOUTUBE 
 
 

" data-width="500" data-numposts="5">